प्रदेश में नही रुक रहा है निजी अस्पतालों में पैसों के लिए गरीबो की लाश रोकने का सिलसिला,एक बार फिर मानवता हुई शर्मसार,चंद रुपये के वजह से शव देने से किया इनकार

प्रदेश में नही रुक रहा है निजी अस्पतालों में पैसों के लिए गरीबो की लाश रोकने का सिलसिला,एक बार फिर मानवता हुई शर्मसार,चंद रुपये के वजह से शव देने से किया इनकार

अभनपुर/– छग में नही रुक रहा है निजी अस्पतालों में पैसों के लिए गरीबो की लाश रोकने का सिलसिला…यही  मामला अभनपुर में संचालित निजी हॉस्पिटल सोनी मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का है जहां से आधी रात को   हुई मौत के बाद समीप आमनेर  गांव के अत्यंत गरीबी रेखा से नीचे जीवन जीने को मजबूर 45 वर्षीय किसान रामाधार बंजारे का शव देने को अस्पताल प्रबंधन ने किया इंकार..किया था साथ ही अस्पताल प्रबंधन द्वारा पीड़ित परिवार से पैसा जमा कराता रहा  पीड़ित परिवार के सदस्यों ने बताया कि दो दिन पूर्व पेट मे दर्द होने पर रामाधार बंजारे 45 वर्षीय को अभनपुर के सोनी मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया साथ ही अस्पताल प्रबंधन द्वारा बारी बारी इलाज पर रुपये की मांग करता रहा और साथ ही मृतक का स्वास्थ्य कुछ सुधार होने पर दूसरे डॉक्टर से दवाई लेने की बात कहते हुय मृतक की पत्नी अमरौतिन बंजारे सो गई वही कुछ देर बार रामाधार बंजारे को मृत बताया ….अचानक स्वास्थ्य में सुधार होते ही मृत का खबर पाकर परिजन हतप्रद हुए वही शव को वापस घर लेने की बात आई तो अस्पताल प्रबंधन द्वारा 18 हजार रुपये जमा कर शव ले जाने के लिये कहा गया इस पर गरीब परिवार से रहे साथ ही परिवार के मुखिया की मौत पर    अत्यंन्त दुखी मृतक की पत्नी अमरौतिन बंजारे पर पति की अचानक मौत एक और पहाड़ गिर आया 18 हजार रुपये जमा करने और बिना रुपये जमा किये शव को परिवार को नही सौप रहे थे….फिर परिवार वालो द्वारा चंदा कर दो हजार रुपये इकट्ठा कर जमा किये वही बाकी रुपये जमा करने के लिये पीड़ित परिवार से अस्पताल प्रबंधन द्वारा  कागज में हस्ताक्षर कर बारी बारी जमा करने का आस्वासन पर ही शव को पीड़ित परिवार को सौंपे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.