अंर्तविभागीय अधिकारियो का कोटपा, 2003 पर हुआ उन्मुखीकरण.


स्वास्थ्य हित में तंबाकू की राज्य में खपत पर नियंत्रण के लिए विभागीय प्रयास की आवश्यकता-राठौर
रायपुर 3 मार्च 2020 ।सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद नियंत्रण अधिनियम (कोटपा), 2003 को राज्य मे प्रभावी रूप से कार्यान्वित किये जाने के लियें एक दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण एवं उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया|
संचालक स्वास्थ्य सेवाऐं एवं परिवार कल्याण संस्थान द्वारा आयोजित इस कार्यशाला मे बीजापुर, बालोद, बलरामपुर, बेमेतरा, दन्तेवाड़ा, जांजगीर-चम्पा, कवर्धा, कोंडागांव, कोरिया, नारायणपुर,रायगढ़, सुकमा, सूरजपुरसहित 13 जिलों के अंर्तविभागीय अधिकारियो ने प्रतिभाग लिया।
इस अवसर पर बोलते हुऐ नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन छत्तीसगढ़, सत्यनारायण राठौर ने बताया तंबाकू का सेवन स्वास्थ्य के लिए अत्याधिक हानिकारक होता है। तंबाकू की खपत पर नियंत्रण के लिए सामाजिक जागरूकता एवं कोटपा 2003 और खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम का सख्ती से पालन कराया जाना आवश्यक है । यह सभी की सामाजिक जिम्मेदारी है, उन्होंने कहा ।
राज्य नोडल अधिकारी डॉ. कमलेश जैन ने कहा तंबाकू के नियंत्रण में केवल आधिकारिक तौर पर नहीं बल्कि सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में भी आगे आने की जरूरत है । तंबाकू के प्रति जागरूकता के अलावा कानून से भी नियंत्रण करने की आवश्यकता है । उन्होंने बताया तंबाकू में 4,000 प्रकार के रसायन तत्व मौजूद होते हैं जिनमें 200 ऐसे विष मौजूद हैं जिनके बारे में जानकारी मिल चुकी है और यह 60 तरह के कैंसर पैदा करने वाले एजेंट होते हैं । इसीलिए तंबाकू को मौत का दूसरा नाम कहा गया है । कोटपा 2003 को प्रभावी रूप से लागू करवाने में यह प्रशिक्षण कार्यशाला महत्वपूर्ण साबित होगी, उन्होंने कहा ।
दिल्ली से आये मुख्य प्रशिक्षक अधिवक्ता, रंजीत सिंह और अधिवक्ता अनंत क्रिश्चियन (गुजरात) ने सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा), 2003 के बारे में आए हुए प्रशिक्षणार्थियों को विस्तृत जानकारी दें उन्होंने धारा 4, 5,6 और 7 के बारे में आए हुए प्रशिक्षणार्थियों समझ विकसित की ।
राज्य स्तरीय कार्यशाला में पूजा अग्रवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक पुलिस मुख्यालय रायपुर, शोएब अली परिवहन विभाग के साथ 13 जिलों के श्रम ,परिवहन ,पुलिस , खाद्य एवं औषधि प्रशासन नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग राज्य स्वास्थ्य संसाधन केंद्र मेडिकल कॉलेज एवं डेंटल कॉलेज के प्रतिनिधियों ने कार्यशाला में प्रशिक्षण प्राप्त किया ।

कार्यशाला में आभार प्रदर्शन आरके सुखदेवे उप-संचालक राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान रायपुर एवं डॉ. कमलेश जैन राज्य नोडल अधिकारी के द्वारा किया गया । प्रशिक्षण में विशेष रूप से ख्याति जैन राज्य विधिक सलाहकार एनटीसीपी, श्वेता आडिल प्रशिक्षण सलाहकार, गौरव खरे तंबाकू नियंत्रण इकाई का योगदान रहा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.