अदाणी पावर लिमिटेड ने वित्तीय वर्ष 2019-20 के चौथे तिमाही के परिणामों की घोषणा की

संपादक के लिए सार-संक्षेप

31 मार्च को समाप्त हुए वर्ष के परिणाम
• वित्त वर्ष 2018-19 में 64% के मुकाबले, वित्त वर्ष 2019-20 में औसत प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) 68%, , 4% की वृद्धि
• कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 में 55.2 बिलियन यूनिट्स बेचने के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 में 64.1 बिलियन यूनिट्स की बिक्री की – जो 16% की वृद्धि रही।
• वित्त वर्ष 2018-19 के 26,362 करोड़ रुपये के समेकित कुल राजस्व के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 में 27,842 करोड़ रुपये का कुल समेकित राजस्‍व, 5.6% की वृद्धि
• वित्त वर्ष 2018-19 में 7,431 करोड़ रुपये के समेकित ईबीआईटीडीए के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 में 7,059 करोड़ रुपये का समेकित ईबीआईटीडीए
• वित्त वर्ष 2018-19 में (-)984 करोड़ रुपये के टैक्‍स के बाद के समेकित घाटे के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 में (-)2,275 करोड़ रुपये का समेकित घाटा

31 मार्च,2020 को समाप्त हुई तिमाही के परिणाम
• वित्त वर्ष 2018-19 के चौथी तिमाही के 79% मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में 66% का औसत प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ)
• वित्त वर्ष 2018-19 के चौथी तिमाही के समेकित कुल राजस्व 8,078 करोड़ रुपये के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में 6,328 करोड़ रुपये का समेकित कुल राजस्‍व
• वित्त वर्ष 2018-19 के चौथी तिमाही के समेकित ईबीआईटीडीए 1,964 करोड़रुपये के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में 360 करोड़ रुपये का समेकित ईबीआईटीडीए
• वित्त वर्ष 2018-19 के चौथी तिमाही में 635 करोड़ रुपये के पीएटी के मुकाबले वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में (-) 1,313 करोड़ रुपये का टैक्‍स के बाद समेकित घाटा

अहमदाबाद, 27 अप्रैल, 2020: अदाणी ग्रुप की कंपनी, अदाणी पावर लिमिटेड ने आज 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के तिमाही के वित्तीय परिणामों की घोषणा की।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के दौरान हुआ प्रदर्शन1

31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के दौरान प्राप्त औसत प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) पिछले वर्ष में प्राप्त 64% के मुकाबले 68% था। अदाणी पावर (मुंद्रा) लिमिटेड (“एपीएमयूएल”) में सप्लीमेंट्री पावर परचेज एग्रीमेंट (“एसपीपीए”) के उच्च घरेलू कोयले को व्‍यवहार में लाने और उसे निष्पादन के कारण पिछले वर्ष की 4 इकाइयों की तुलना में इस वर्ष के दौरान 11 इकाइयों के एनुअल ओवरहाल (“एओएच”) और कैपिटल ओवरहाल (“सीओएच”) के बावजूद पीएलएफ अधिक रहा।

रायगढ़ एनर्जी जनरेशन लिमिटेड (“आरईजीएल) और रायपुर एनर्जेनलिमिटेड (“आरईएल”) से अधिक पीएलएफ और 4.3 बीयू की बिजली की बिक्री के कारण, पिछले वर्ष के दौरान बेची गई 55.2 बीयू की तुलना में इस वर्ष के दौरान बेची गई इकाइयां 64.1 बिलियन यूनिट (बीयू) रहीं, जो 16% अधिक थीं। ।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के लिए समेकित कुल आय पिछले वर्ष के 26,362 करोड़ रुपये की तुलना में 5.6% अधिक बढ़कर 27,842 करोड़ रुपये रही।

इस वर्ष के लिए समेकित ईबीआईटीडीए पिछले वर्ष में 7,431 करोड़ रुपये से गिर कर 7,059 करोड़ रुपये रही। ईबीआईटीडीए में पिछले वर्ष के 2,864 करोड़ रुपये के मुकाबले 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के दौरान 1,285 की पूर्व अवधि से संबंधित नेट रेग्‍यूलेटरी आय शामिल है, जो संबंधित अवधि के दौरान प्राप्त रेग्‍यूलेटरी आदेशों पर आधारित है। इसके अलावा, वर्ष के लिए ईबीआईटीडीए में पिछले वर्ष के 145 करोड़ रुपये के मुकाबले 329 करोड़ रुपये का वनटाइम (एकबारगी) प्रावधान भी शामिल है।

आरईएल और आरईजीएल के समेकन को लागू करने के बाद, पिछले वर्ष के 2,751 करोड़ रुपये के मुकाबले वर्ष के लिए मूल्यह्रास लागत 3,007 करोड़ रुपये रही।

टैक्‍स और असाधारण वस्तुओं के मद में पिछले वर्ष हुए (-) 984 करोड़ रुपये के घाटे के मुकाबले, 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के लिए टैक्‍स और असाधारण वस्तुओं के कारण हुआ घाटा (-) 2,275 करोड़ रुपये रहा। वर्ष के घाटे में (-) 1,003 करोड़ रुपये का असाधारण वस्तुओं का घाटा शामिल है, जो कोरबा वेस्ट पावर कंपनी लिमिटेड , जिसका नामकरण अब आरईजीएल हो गया है, के अधिग्रहण के लिए कंपनी द्वारा प्रस्तुत संकल्प योजना की स्वीकृति के कारण, कुछ प्राप्तियों और अग्रिमों को बट्टे खाते में डालने (राइट ऑफ करने) से संबंधित है।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष 20 के लिए टैक्‍स का कुल समग्र घाटा, पिछले वर्ष के लिए (-)992 करोड रुपये के मुकाबले (-) 2,264 करोड रुपये रहा।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वर्ष के तिमाही के दौरान प्रदर्शन

31 मार्च 2020 को समाप्त हुई तिमाही के दौरान प्राप्त औसत प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) पिछले वर्ष की इसी तिमाही के दौरान प्राप्त 79% की तुलना में 66% रहा।

वर्ष की तिमाही के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में, घटे पीएलएफ कारण मुख्य रूप से चालू तिमाही के दौरान एपीएमयूएल और उडुपी पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (“यूपीसीएल”) इकाइयों में एओएच/सीओएच रहा। इसके अलावा, बिजली की मांग में कमी और नवीकरणीय ऊर्जा की बढ़ती पैठ ने कवाई और उडुपी बिजली संयंत्रों की क्षमता के उपयोग को भी प्रभावित किया।

पीएलएफ कम होने के बावजूद, तिमाही के दौरान बेची गई इकाइयाँ 16.6बीयू थीं, जो कि पिछले साल की इसी तिमाही के दौरान बेची गईं 16.6बीयू के बराबर रहीं, जिसका कारण मुख्य रूप से आरईजीएल और आरईएल से बिजली की बिक्री रही।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुई तिमाही के लिए समेकित कुल आय, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के 8,078 करोड़ रुपये के मुकाबले गिरावट दर्ज करते हुए 6,328 करोड़ रुपये रही।

तिमाही के दौरान समेकित कुल आय रुपये में कमी मुख्य रूप से पिछले वर्ष की इसी तिमाही के दौरान के 1,198 करोड़ रुपये की वहन लागत की स्‍वीकृति, और कम पीएलएफ के कारण वर्तमान तिमाही में एपीएमयूएलऔर यूपीसीएल में कम राजस्व के कारण रही, जिसकी क्षतिपूर्ति आंशिक रूप से आरईएल और आरईजीएल के राजस्व द्वारा की गई।

तिमाही के लिए समेकित ईबीआईटीडीए, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के 1,964 करोड़ रुपये के मुकाबले 360 करोड़ रुपये रहा।

तिमाही के लिए ईबीआईटीडीए में कमी, मुख्य रूप से पिछली इसी तिमाही के 1,198 करोड़ रुपये के वहन लागत की वनटाइम स्‍वीकृति, तिमाही में 184 करोड़ रुपये के वनटाइम प्रावधान, कम पीएलएफ के कारण एपीएमयूएलके ईबीआईटीडीए में कमी और पिछले वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में प्रतिकूल विदेशी मुद्रा उतार-चढ़ाव के कारण रही।

तिमाही के दौरान मूल्यह्रास और ब्याज शुल्क, मुख्य रूप से आरईएल और आरईजीएल के समेकन के कारण अधिक रहा।

31 मार्च 2020 को समाप्त हुई तिमाही के लिए टैक्‍स और असाधारण वस्तुओं का घाटा, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के लिए टैक्‍स और असाधारण वस्तुओं में 635 करोड़ रुपये के लाभ की तुलना में (-) 1,313 करोड़ रुपये रहा। 31 मार्च 2020 को समाप्त हुई तिमाही में, पिछले वर्ष की इसी तिमाही के लिए 624 करोड़ रुपये की कुल व्यापक आय तुलना में टैक्‍स के बाद कुल व्यापक घाटा (-)1,299 करोड़ रुपये था।

कंपनी के वार्षिक परिणामों पर टिप्पणी करते हुए, श्री गौतम अदाणी, चेयरमैन, अदाणी ग्रुपने कहा कि “अदाणी ग्रुप राष्ट्र के प्रति अपनी प्रतिबद्धता निभाते हुए राष्‍ट्र के साथ है, ताकि कोविड-19 लॉकडाउन के समय में बिजली की बाधारहित उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। हम अपनी विशाल और ऊर्जावान आबादी के लिए समृद्धि के अगले चरण के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि के इंजन को पुनर्जीवित करने तथा कड़ी मेहनत के माध्यम से ताकत हासिल करने की क्षमता के को लेकर आश्वस्त हैं। भारत की प्रमुख इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर कंपनी के तौर पर, अदाणी ग्रुप देश को स्थायी विकास के रास्ते पर ले जाने के लिए भागीदारी करने को तैयार है।”

अदाणी पावर लिमिटेड के सीईओ, श्री विनीत एस जैन ने कहा कि “सामूहिक और व्यक्तिगत प्रयासों के माध्यम से अदाणी पावर इस चुनौतीपूर्ण दौर में भी भारत की बिजली की मांग को पूरा करने के लिए अपनी बिजली उत्पादन क्षमता को पूरी तरह से उपलब्ध रखने में सक्षम है। यह हमारे बेजोड़ ईंधन प्रबंधन, लॉजिस्टिक्स, और निजी क्षेत्र के दायरे में उपलब्‍ध तकनीकी क्षमताओं को और अधिक विश्वसनीयता प्रदान करता है, ताकि आधुनिक बिजली संयंत्रों के बढ़ते पोर्टफोलियो का सफलतापूर्वक प्रबंधन किया जा सके। हम सुरक्षा, विश्वसनीयता और दक्षता को अपने मार्गदर्शक सिद्धांतों के रूप में अपनाते हुए, अपने हितधारकों के प्रति अपने दायित्वों को पूरा करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।”

अदाणी पावर के बारे में

विविधताओं वाले अदाणी ग्रुप का एक हिस्सा, अदाणी पावर (एपीएल), भारत में सबसे बड़ा निजी थर्मल पावर उत्पादक है। कंपनी के पास गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के छह बिजली संयंत्रों से 12,410 मेगावाट की थर्मल पावर उत्‍पादन की क्षमता है। इसके अलावा, कंपनी के पास गुजरात में 40 मेगावाट का सौर ऊर्जा संयंत्र भी है। बिजली के हर क्षेत्र में विशेषज्ञों की विश्व स्तरीय टीम की मदद से, अपनी विकास क्षमता को हासिल करने के लिए अदाणी पावर की यात्रा जारी है। कंपनी भारत को पावर-सरप्लस राष्ट्र में बदलने तथा सभी को गुणवत्तापूर्ण और सस्ती बिजली प्रदान करने के लिए टेक्‍नोलॉजी और इनोवेशन का उपयोग कर रही है।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया वेबसाइट www.adanipower.com को देखें।


1चौथी तिमाही और वित्त वर्ष 2019-20 के लिए परिचालन और वित्तीय प्रदर्शन में रायगढ़ एनर्जी जनरेशन लिमिटेड, जिसे जुलाई 2019 में अधिग्रहित किया गया था, के 600 मेगावाट के थर्मल पावर प्लांट का प्रदर्शन, और रायपुर एनर्जेन लिमिटेड, जिसका अधिग्रहण अगस्त 2019 में किया गया था, के 1,370 मेगावाट के सुपरक्रिटिकल थर्मल पावर प्लांट का प्रदर्शन शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.