इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय ई-लर्निंग सामग्री उपलबध कराने में देश में दूसरे स्थान पर: डाॅ. पाटील.


आॅनलाइन शिक्षण प्लेटफाॅर्म ‘सेरा’ पर वेबिनार आयोजित 
रायपुर, 20 मई, 2020। कृषि विषय के विद्यार्थियांे को आॅनलाइन पाठ्य सामग्री एवं शोध पत्रिकाएं उपलब्ध कराने के लिए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर की नेहरू लायब्रेरी द्वारा इन्फोरमेटिक्स, बैंगलूरू के सहयोग से सेरा (कन्सोर्टियम आॅफ ई रिसोर्सेज इन एग्रीकल्चर) प्लेटफाॅर्म के अंतर्गत जे-गेट (जर्नल गेट) पर एक दिवसीय वेबिनार आयोजित किया गया। इस वेबिनार का शुभारंभ इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. एस.के. पाटील द्वारा किया गया। इस वेबिनार में सेरा के व्यवसाय प्रबंधक श्री एस.के. जोशी, इन्फोरमेटिक्स पब्लिशिंग लिमिटेड के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजय ग्रोवर एवं नेहरू लायबे्ररी के पुस्तकालयाध्यक्ष डाॅ. माधव पाण्डेय सहित सेरा प्लेटफाॅर्म उपयोग करने वाले विभिन्न विश्वविद्यालयों के वरिष्ठ अधिकारी, अधिष्ठातागण, प्राध्यापक, वैज्ञानिक, पुस्तकालयाध्यक्ष एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली द्वारा कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान के क्षेत्र में ई लर्निंग को बढ़ावा देने के लिए सेरा प्लटफाॅर्म विकसित किया गया है जहां कृषि विषय से संबंधित पाठ्यपुस्तकें एवं अनुसंधान तथा शोध सामग्री वृहद संख्या में उपलब्ध हैं।
वेबिनार का शुभारंभ करते हुए डाॅ. एस.के. पाटील ने कहा कि आॅनलाइन शिक्षण को बढ़ावा देने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली द्वारा विकसित सेरा प्लेटफाॅर्म एक अभिनव और उपयोगी पहल है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थी आॅनलाइन पढ़ाई के लिए सेरा प्लेटफाॅर्म का बहुतायत से उपयोग कर रहे हैं और सेरा प्लेटफाॅर्म के उपयोग के मामले में सबसे आगे हैं। डाॅ. पाटील ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण के कारण देश भर में स्कूल और काॅलेज बंद हैं जिससे कक्षा शिक्षण नहीं हो पा रहा है। ऐसी स्थिति में आॅनलाइन शिक्षण माध्यम काफी उपयोगी साबित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को ई-लर्निंग सामग्री उपलब्ध कराने में इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय धारवाड़ कृषि विश्वविद्यालय, कर्नाटक के पश्चात देश में दूसरे स्थान पर है। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह वेबिनार अपने आयोजन के उद्देश्यों में सफल साबित होगा।
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली के अंतर्गत सेरा प्लेटफाॅर्म के व्यवसाय प्रबंधक श्री एस.के. जोशी ने कहा कि परिषद द्वारा कृषि के क्षेत्र में आॅनलाइन शिक्षण को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2008 में सेरा प्लेटफाॅर्म की शुरूआत की गई। आज देश भर में इसके 152 संस्थान इसके सदस्य हैं जिनमें प्रदेशिक कृषि विश्वविद्यालय तथा भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा संचालित संस्थान शामिल हैं। सेरा प्लेटफाॅर्म पर 3300 ई जर्नल तथा 1200 से अधिक किताबें उपलब्ध हैं। इन्फोरमेटिक्स बैंगलूरू के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजय ग्रोवर ने सेरा प्लेटफाॅर्म के उपयोग एवं उपलब्धियों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। इस वेबिनार के संयोजक श्री एम.एन. सरकार ने सेरा एवं जे-गेट के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जे-गेट के अंतर्गत 6 करोड़ से अधिक शोध पत्र तथा 50 हजार से अधिक इन्डेक्स्ड जर्नल उपलब्ध कराए गए हैं जिनका उपयोग कृषि छात्र-छात्राओं, अनुसंधानकर्ताओं तथा शोध छात्रों द्वारा किया जा रहा है। नेहरू पुस्तकालय की सहायक पुस्तकालयाध्यक्ष श्रीमती मोनिका शर्मा द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया।

(संजय नैयर)
सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.