माह को सफल बनाने मितानिन कर रही घर-घर भ्रमण


14 जुलाई से 14 अगस्त तक चलेगा शिशु संरक्षण माह
शिशु संरक्षण माह में विटामिन ए और आयरन सीरप की दी जाती है खुराक
रायपुर 27 जुलाई 2020 । ज़िले में 14 जुलाई से 14 अगस्त तक चलने वाले शिशु संरक्षण माह के दौरान मितानिनों के सहयोग से 2.59 लाख से अधिक बच्चों को विटामिन ए और लगभग 2.79 लाख बच्चों को आयरन सीरप की खुराक दी जा रही है । यह खुराक 2510 प्रस्तावित सत्रों में दी जायेगी ।
शिशु संरक्षण माह को सफल बनाने के लियें मितानिन के माध्यम से छः माह से 5 वर्ष तक की उम्र के बच्चों को केंद्र तक पहुंचाने की जिम्मेदारी के साथ-साथ केंद्र पर शारीरिक दूरी को बनाने में भी मितानिन से सहयोग लिया जा रहा है ताकि कोई भी बच्चा ना छूटे और संक्रमण से सुरक्षित रहे।
ज्ञात रहे आयरन और विटामिन ए की खुराक बच्चों को कुपोषण से बचाती है और उनका शारीरिक और मानसिक विकास ठीक से होता है। नौ माह से एक वर्ष तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक एक एमएल, एक वर्ष से पांच वर्ष तक उम्र के बच्चों को दो एमएल, छः माह से 5 वर्ष तक की उम्र के बच्चों को एक एमएल प्रति सप्ताह आयरन फोलिक सीरप की खुराक दी जा रही है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मीरा बघेल ने बताया शिशु संरक्षण माह में नियमित रूप से मितानिनों के माध्यम से घर-घर दस्तक देकर शिशु संरक्षण माह की नियमित जानकारी पहुंचायी जा रही है । साथ ही मितानिनों के माध्यम से केंद्रों पर आए हुए पालकों से शारीरिक दूरी बनावाने में सहयोग लिया जा रहा है ।
“जब घरवाले शिशु संरक्षण माह में अपने बच्चे को केंद्र ले जाए तो विशेष रूप से बच्चे का टीकाकरण कार्ड भी लेकर निकलें ताकि किसी भी प्रकार की असुविधा से बचा जा सकता है,’’ उन्होंने कहा।
शिशु संरक्षण माह में अपनायी जा रही शारीरिक दूरी की जानकारी देते हुए जिला टीकाकरण अधिकारी रायपुर डॉ.विकास तिवारी ने बताया शिशु संरक्षण माह के लिए अनुपूरक कार्यक्रम की गाइड लाईन जारी की गयी है जिसमें दिये गये प्रावधानों का कडाई से पालन किया जा रहा है ।शिशु संरक्षण माहविटामिन ए अनुपूरक कार्यक्रम है जिसमें विटामिन ए और आयरन सिरप सरकारी स्वास्थय केन्द्रों में निशुल्क दी जाती हैं।
इस दौरान विटामिन ए व आयरन सिरप,बच्चों का वजन लेना, पोषण आहार की जानकारी देना, आंगनवाड़ी केंद्रों में पोषण आहार की सेवाओं की उपलब्धता कराना,और अति गंभीर कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर पोषण पुनर्वास केंद्र भी भिजवाया जाता है ।
स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग व अन्य विभागों से समन्वय कर इस अभियान को सफल बनाने का प्रयास किया जा रहा है । अभियान के सफल संचालन में ग्राम स्वास्थ्य व शहरी स्वास्थ्य पोषण दिवस पर ग्राम व शहरी स्तर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, क्षेत्र की मितानिन, महिला आरोग्य समिति, ग्राम पंचायत, वार्ड पार्षद और सदस्यगणों का भी सहयोग लिया जा रहा है।
इन दिनों में आयोजित हो रहे है सत्र

शिशु संरक्षण माह में 28 और 31 जुलाई को सत्र आयोजित हो रहे है वहीं अगस्त में 4,7,11 और 14 को सत्रों का आयोजन किया जायेगा ।