6 माह से जूता-चप्पल नहीं पहन रहे ये नेता जी, 5 बार रहे हैं विधायक,घबड़ा गए विरोध दल,कह रहे ये बातें

Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws

बिहार विधानसभा चुनाव के चलते आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। वहीं, कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए तरह-तरह के संकल्प भी ले रहे हैं। इसी बीच एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां पर बीजेपी के पूर्व विधायक 65 वर्षीय जवाहर प्रसाद पिछले 6 महीने से जूता- चप्पल नहीं पहन रहे हैं। साथ ही उन्होंने संकल्प लिया है कि जब तक कोरोना वायरस का संक्रमण हिंदुस्तान से खत्म नहीं हो जाता वह अपने पांव में जूता-चप्पल हीं पहनेंगे। वहीं चुनावी बेला में विरोधी दल इसे चुनावी स्टंट है।

पूर्व विधायक जवाहर प्रसाद ने मार्च महीने से अपने पांव से चप्पल तथा जूते त्याग दिए हैं। यहां तक कि कई कार्यक्रमों में भी उन्हें नंगे पांव ही देखा जाता है।

सासाराम के पांच बार विधायक रह चुके जवाहर प्रसाद कहते हैं कि चाहे विभिन्न राजनीतिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए शहर से बाहर जाना हो या फिर चुनावी सीजन शुरू होने पर गांव, मोहल्लों और शहरों में भ्रमण करना हो, हर परिस्थिति में वे नंगे पांव ही लोगों के बीच जा रहे हैं।

पूर्व विधायक जवाहर प्रसाद कहते हैं कि चाहे कितना भी समय लगे, जब तक कोरोना वायरस देश से दूर नहीं होगा वह नंगे पांव ही रहेंगे। नेताजी के इस अनोखे संकल्प की चर्चा है।

पूर्व विधायक जवाहर प्रसाद भाजपा से जुड़े हुए हैं। वे पिछली बार के विधानसभा चुनाव में थोड़े ही अंतर से चुनाव हार गए थे। ऐसे में विरोधियों का कहना है कि यह उनका चुनावी स्टंट है।

विपक्षी दलों का कहना है कि लोगों के बीच सहानुभूति बटोरने के लिए नेताजी ऐसा कर रहे हैं। लेकिन, इससे कुछ होने जाने वाला नहीं है। ऐसे भी धार्मिक प्रवृत्ति के होने के कारण वे ज्यादातर चप्पल जूता का उपयोग आम दिनों में भी कम ही करते थे।