गढ़बो सुपोषित छत्तीसगढ़ की रंगोली बनाकर‘’सही पोषण देश रोशन’’का दिया संदेश


बचपन से है रंगोली बनाने का शौक
भाई बहन के साथ मिलकर घर से ही कर रहीं है लोगों को प्रेरित
रायपुर 24 सितंबर 2020।
साक्षी ने दिव्यांगता को कभी आड़े नहीं आने दिया। वह अपने रंगोली बनाने के शौक से समुदाय में सही पोषण, देश रोशन’ का सन्देश दे रही है। गढ़बो सुपोषित छत्तीसगढ़ की रंगोली बनाकर 15 वर्षीय साक्षी ‘’सही पोषण देश रोशन’’ का सन्देश दे रही है| जन्म से दिव्यांग साक्षी ने हौसले को कभी कमज़ोर नही होने दिया और कोरोना सक्रमंण काल में माँ के साथ कंधे से कंधा मिलाकर प्रदेश में चल रहे पोषण माह में हितग्राहियों को कभी रंगोली तो कभी फैंसी ड्रेस या फिर पोषण थाली सजाकर ‘’सही पोषण देश रोशन’’ का संदेश दिया । साक्षी गजभिए की माँ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता है। कोरोना वायरस के संक्रमण काल में आंगनबाड़ी केंद्रों पर गतिविधियां नहीं हो पा रहीं हैं ।मैंने मम्मी को डिजिटल तकनीक के माध्यम से उन लोगों को पोषण माह का संदेश भेजने कि लियें घर पर ही “गढ़बो सुपोषित छत्तीसगढ़” संदेश की रंगोली बनाकर आंगनबाड़ी केंद्र के हितग्राहियों तक पोषण आहार, बच्चों के लिए पूरक(ऊपरी) आहार का संदेश पहुंचाया है ।‘’
साक्षी बताती है जब वह चौथी कक्षा में थी तब से उसे रंगोली बनाने का शौक हुआ था ।पहले वह कागज पर ड्राइंग करती थी जिसमें उसकी माँ मदद करती थी। उसे गाने का भी बहुत शौक है। “मम्मी की प्रेरणा से मुझे रंगोली, सिंगिंग और ड्राइंग बनाने में सदैव मदद मिलती रही है।‘’ साक्षी कहती है वह बडे होकर डॉक्टर बनना चाहती है ।
साक्षी ने किशोरी बालिकाओं को पोषण माह के अंतर्गत रंगोली बनाकर हरी सब्जी,दालें,अंकुरित भोजन और स्वच्छता का संदेश दिया है ।

गुढ़ियारी सेक्टर की पर्यवेक्षक रीता चौधरी कहती हैं आंगनबाड़ी केंद्र अंबेडकर नगर सेक्टर गुढ़ियारी में ‘’हरिहर छत्तीसगढ़ महतारी’’बनाकर व्हाट्सएप के माध्यम से साक्षी ने गर्भवती महिलाओं, शिशुवती माता और 6 माह से 6 वर्ष के पालकों को संदेश दिया गया है । साथ ही किशोरी बालिकाओं को भविष्य में माता बनने से पूर्व किशोरावस्था में प्रतिदिन चावल, दाल, सब्जी , भाजी (मुनगा भाजी) अपने भोजन में आवश्यक रूप से शामिल करने का संदेश भी दिया है l