जिंदल के महाप्रबंधक सुयश शुक्ला ने 200 किलोमीटर साइकल से दूरी तय कर फिटनेस का दिया संदेश

Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws

टूर डे पर औडेक्स क्लब पेरिशन का  साइकिल चालन का आयोजन  
रायपुर। जिन्दल स्टील में महाप्रबंधक सुयश शुक्ला ने एक बार फिर अपनी फिटनेस से लोगों को आश्चर्य में डाल दिया है। उन्होंने फिटनेस के संदेश के साथ रायपुर – पिथौरा – रायपुर का करीब 2 सौ किमी का सफर साइकिल से सफलतापूर्वक तय किया।

इस कार्यक्रम का आयोजन टूर डे रायपुर के तत्वावधान में औडेक्स क्लब पेरिशन द्वारा रविवार को किया गया था। सुयश शुक्ला टूर डे रायपुर के प्रतिनिधि के रूप में इसमें शामिल हुए। इस कार्यक्रम में कुल 57 प्रतिभागियों ने अपना पंजीयन इसके लिए करवाया। श्री शुक्ला ने एक प्रतिभागी के रूप में इसमें हिस्सा लिया और अपने इस सफर में उन्होंने फिटनेस के प्रति लोगों को जागरुक करने का भी प्रयास किया।
श्री शुक्ला इससे पहले छत्तीसगढ़ शासन द्वारा आयोजित रुद्री बैराज से जबर्रा “दू पईडिल” 56 किलोमीटर साइकिल चालन में भी भाग ले चुके हैं। अब की बार उन्होंने इसकी सीमा 2 सौ किमी तक बढ़ाई और सफलतापूर्वक इस दूरी को साइकिल से तय किया।
फिटनेस और साइक्लिंग के अपने शानदार अनुभव को छत्तीसगढ़आजडॉटकॉम के साथ साझा करते हुए सुयश शुक्ला ने बताया कि पहली बार उन्होंने इतनी दूरी साइकिल से तय की और उनका अनुभव बहुत शानदार रहा। यह सफर उन्होंने 11 घंटे 22 मिनट में तय किया। उन्होंने बताया कि शुरुआत में थोड़ी रुकावट साइकिल को लेकर आई , लेकिन फिर सब कुछ ठीक हो गया और उनका सफर एक बार फिर शुरू हुआ। उन्होंने बताया कि इस सफर में गांव वालों , बच्चों, पुलिस कर्मियों और कुछ दुकानदारों से उनकी मुलाकात हुई और सभी ने उनकी टीम के इस हौसले को प्रोत्साहित किया। पिथौरा में एक ढाबा संचालक तो फिटनेस के प्रति उनके जुनून को देखते हुए इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने साथ में फोटो भी खिंचवाने का आग्रह कर डाला।
श्री शुक्ला ने बताया कि कोरोना काल में फिटनेस को बरकरार रखना बहुत जरूरी है। वे रोजाना करीब 15 किमी साइक्लिंग करते हैं। उनकी सुबह 4.30 से 5.00 बजे के बीच होती है और वे फिर अपनी साइकिल लेकर निकल पड़ते हैं। उन्होंने बताया कि वे अपनी रुटीन में हेल्दी डाइट के रूल को फालो करते हैं। दूध, बादाम, हरी सब्जियां खासकर कद्दू, लौकी का सेवन ज्यादा करते हैं और नमक तथा अनाज का सेवन कम करते हैं। उनके जीवन का एक ही मंत्र है स्वस्थ रहें, खुश रहें….।