धनु बाड


धनु बाड 6 दिसंबर 2020 Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws
रिटायर सीएस आरपी मंडल को सरकार ने एनआरडीए का चेयरमैन बनाया है। यह पहला मौका होगा, जब किसी रिटायर सीएस को एनआरडीए में पोस्टिंग दी गई है। वो भी चेयरमैन के तौर पर। छत्तीसगढ़ की ब्यूरोक्रेसी इससे खुश है कि आईएएस के पोस्ट रिटायरमेंट पोस्टिंग के लिए सूबे में एक और पोस्ट क्रियेट हुआ। अभी तक सीएस से रिटायर होने वाले अफसरों के लिए प्रदेश में तीन पद थे। रेरा चेयरमैन, मुख्य सूचना आयुक्त और चेयरमैन इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन। रिटायर सीएस अजय सिंह को सरकर ने प्लानिंग कमीशन में ही कंटीन्यू कर दिया। और अब आरपी मंडल के लिए एनआरडीए। याने रिटायर्ड सीएस, एसीएस के लिए अब पूरे पांच पद हो गए। जाहिर है, नौकरशाहों का सरकार पर भरोसा बढ़ा है…पोस्ट का टोटा ही क्यों न हो, पारफारमेंस बेहतर हो तो पोस्ट रिटायरमेंट पोस्टिंग की दिक्कत नहीं होगी।

Watsapp

एक माईनस?

अगले बरस अप्रैल में इलेक्ट्रिीसिटी रेगुलेटरी कमीशन से डीएस मिश्रा रिटायर हो जाएंगे। ब्यूरोक्रेसी में अटकलों का दौर जारी है….आरपी मंडल एनआरडीए छोड़कर इस पांच साल के संवैधानिक पोस्ट पर आना चाहेंगे। आयोग में रहने का मतबल ये है कि बीच में कोई हटा नहीं सकता। लेकिन, फील्ड में काम करने वाले मंडल लगता नहीं कि कमीशन में आना चाहेंगे। अलबत्ता, सुनने को ये मिल रहा कि इस बार रेगुलेटरी कमीशन में किसी आईएएस को बिठाने की बजाए एक इंजीनियर को चेयरमैन बनाया जाएगा। यानी ब्यूरोक्रेसी को एनआरडीए का एक पद मिला तो एक हाथ से निकल जाएगा।

अघोर पीठ में सीएम

सीएम भूपेश बघेल आज जशपुर प्रवास में सोगड़ा के प्रसिद्ध अघोरेश्वर भगवान राम आश्रम गए। वहां उन्होंने मां काली की पूजा-अर्चना की। सोगड़ा आश्रम उस समय चर्चा में आया था, जब चंद्रशेखर अघोरेश्वर बाबा से मिलने पहुंचे थे। बाबा ने उन्हें, प्रधानमंत्रीजी कैसे हैं, कहकर संबोधित किया तो लोग आवाक रह गए थे। इसके पखवाड़े भर बाद चंद्रशेखर पीएम बन गए थे। हालांकि, बाद में चंद्रशेखर की किसी बात से बाबा नाराज हो गए। चंद्रशेखर तब तीन दिनों तक आश्रम के बाद पैरा पर बैठे रहे, लेकिन, बाबा उनके नहीं मिले। उस समय सारे नेशनल अखबारों में चंद्रशेखर के पैरा पर बैठे फोटो छपी थी। बाबा संभव राम अब ट्रस्ट के प्रमुख हैं। देश के बड़े-बड़े राजनेता और नौकरशाह उनके भक्तों में शामिल हैं। कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया भी कुछ दिन पहले उनके आश्रम गए थे।

आईजी का गुस्सा

रायपुर आईजी डाॅ0 आनंद छाबड़ा सौम्य और शालीन पुलिस अधिकारी के तौर पर जाने जाते हैं। लेकिन, शुक्रवार को राजधानी पुलिस की बैठक में उनका गुस्सा भड़़क गया। उनके निशाने पर सीएसपी, एडिशनल एसपी थे। उन्होंने साफ तौर पर चेता दिया कि राजधानी में अगर अपराधों को काबू नहीं किया गया तो अब खैर नहीं। छाबड़ा पुलिस की इस लापरवाही पर भी बेहद खफा नजर आए कि एक वीवीआईपी का परिवार एयरपोर्ट पर आया और एक सिपाही तक वहां नहीं पहुचा। जबकि, वीवीआईपी के निवास से सिविल लाईन पुलिस को इसकी जानकारी दी गई थी। कायदे से सिविल लाईन पुलिस को माना थाने को इसकी खबर देनी थी। लेकिन, माना थाने तक सूचना पहुंची नहीं।

तीनों विभाग

पहली बार पीडब्लूडी, इरीगेशन और पीएचई, तीनों वक्र्स डिपार्टमेंट सीएम सचिवालय के पास चला गया है। पीडब्लूडी पहले से सिद्धार्थ परदेशी के पास था। पिछले महीने उन्हें पीएचई मिला और अब सुब्रत साहू को इरीगेशन। तीनों महत्वपूर्ण विभाग सीएम सचिवालय के पास आ जाने से जाहिर है, इन विभागों का काम अब रफ्तार पकड़ेगा। पिछली सरकार में भी पीडब्लूडी सीएम सचिवालय में ही रहा। सिकरेट्री टू सीएम सुबोध सिंह के पास पीडब्लूडी था।

एक अफसर, और….

अबकी पोस्टिंग में सरकार ने एक काम और अच्छा किया है, सेम नेचर की तीन हाउसिंग एंड डेवलपमेंट एजेंसियों की कमान एक आईएएस को सौंप दिया है। अय्याज तंबोली के पास हाउसिंग बोर्ड और आरडीए के साथ अब एनआरडीए भी मिल गया है। इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। हाउसिंग बोर्ड, आरडीए और एनआरडीए तीनों के कमिश्नर और सीईओ अलग-अलग अफसर होते थे। सरकार का मानना है, एक अफसर होने के कारण तीनों एजेंसियां अब बेहतर तालमेल के साथ काम करेंगी।