सीएमएचओ, स्वास्थ्य कार्यालय के अधिकारियों और कर्मचारियों ने लगवाया कोरोना का टीका


कोरोना टीकाकरण से लाभार्थियों में नहीं दिखा कोई विपरीत प्रभाव
टीकाकरण न कराने पर होगा दो दिन का इंतजार,फिर अप्रूवल लिस्ट से हट जाएगा नाम
रायपुर21 जनवरी 2021।
गुरुवार को कोरोना टीकाकरण के चौथे सत्र के दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी समेत कई डाक्टरों,अधिकारियों और कर्मचारियों ने कोरोना से बचाव का टीका लगाया।
सीएमएचओ रायपुर डॉ.मीरा बघेल और जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अनिल परसाई ने सभी से अपील की है कि वह कोविड-19 से सुरक्षा देने के लिए कोविड का टीका अवश्य लगवायें। टीका पूरी तरह से सुरक्षित है और बिना भय के निर्धारित समय पर इसे जाकर लगवाएं।
ज़िले के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के कुल 5 संस्थानों में टीकाकरण किया जा रहा है जिसमें एम्स हॉस्पिटल, पंडित जवाहरलाल नेहरू स्मृति मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल पंडरी , एनएच एमएमआई हॉस्पिटल और मिशन हॉस्पिटल तिल्दा शामिल है। सभी टीकाकरण केन्द्रों पर जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की निगरानी में यहां हर दिन कोविन एप के अनुसार फ्रंटलाइन कोरोना वर्कर्स को कोविड का टीका लगाया जा रहा है। वर्तमान में एक केंद्र पर 100 टीके लगाए जाने का लक्ष्य है जिसमें से 16 जनवरी को 344, 18 जनवरी को 301 और 20 जनवरी को 369 लोगों ने टीका लगाया।
डॉ मीरा बघेल ने बताया: “कोई लाभार्थी अगर बिना सूचना दिए वैक्सीन नहीं लगवाता है तो विभाग दो दिन उसके नाम को प्रतिरक्षा सूची में रखेगा। इसके बाद वह नाम फिर अप्रूवल लिस्ट से हट जाएगा”।
डॉ. बघेल ने कहा ’’जिले के पॉच केंद्रों पर कोविड-19 की वैक्सीन लगाने का काम चल रहा है । इन सभी केंद्रों को मिलाकर 500 फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है। सभी को सुबह 8 बजे निर्धारित केंद्र में पहुंचकर सुबह 9 बजे से वैक्सीनेशन का कार्य शुरू किया जाता हैं‘’।
दो दिन बाद अप्रूवल लिस्ट से हट जाएगा नाम : सीएमएचओ डॉ. बघेल
डॉ. बघेल ने कहा‘’कई लोगों को कोरोना संक्रमित, गर्भावस्था व अन्य स्वास्थ्यगत कारणों से टीका नहीं लगाया जा रहा है। कई लोग ऐसे हैं जिन्होंने सूचना देकर न आने का कारण बताया है। इनको बाद में कोविड की वैक्सीन लगाई जाएगी। लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं, जिन्होंने कोई सूचना भी नहीं दी है और टीकाकरण के लिए भी नहीं पहुंचे हैं। ऐसे लोगों का दो दिन बाद अप्रूवल लिस्ट से नाम हट जाएगा इसलिए बिना लापरवाही किए वैक्सीनेशन निर्धारित दिन व समय पर करवाएं। कोरोना से जंग जीतनी है तो वैक्सीन लगवाना जरूरी है। यह टीका बिल्कुल सुरक्षित है’।‘’
सफलतापूर्वक चल रहा है टीकाकरण : डॉ परसाई
जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अनिल परसाई ने कहा जिन लोगों को कोविड की पहली डोज लग चुकी है उन्हें दूसरी डोज 28वें दिन लगेगी। सभी वैक्सीनेशन केंद्रों में ऑब्जर्वेशन रूम बनाए गए हैं। टीका लगने के बाद आधे घंटे तक टीकाकरण केंद्र पर फ्रंट लाइन वर्कर्स को रहना है। प्रतिरक्षित व्यक्ति को बेचैनी या किसी भी तरह की समस्या है तो निकटतम डॉक्टर या स्वास्थ्य अधिकारियों, एएनएम और मितानिन को इसकी सूचना दें। एंबुलेंस सेवा 108 भी उपलब्ध है । वैक्सीनेशन के बाद प्रतिरक्षित व्यक्ति भी कोरोना अनुरूप व्यवहारों का पालन याद रखना है जैसे कि मस्क पहनना, हाथ की सफाई और शारीरिक दूरी को बनाए रखना जो कम से कम 6 फीट या दो गज की हो ।
सत्यापन की होती है आवश्यक

कोविड – 19 टीकाकरण के लिए जाते समय एक पहचान पत्र ले आना न भूलें। जैसे आधार/ड्राइविंग लाइसेंस/वोटर आईडी/ पैन कार्ड/ पासपोर्ट/जॉब कार्ड/पेंशन दस्तावेज/स्वास्थ्य मंत्रालय की योजना के तहत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड/महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कार्ड (मनरेगा)/सांसदों/विधायकों/एमएलसी को जारी किए गए आधिकारिक प्रमाण पत्र बैंक/पोस्ट ऑफिस द्वारा जारी पासबुक केंद्र/राज्य सरकार/पब्लिक लिमिटेड कंपनी द्वारा जारी सेवा आईडी कार्ड का होना जरूरी है । जिससे आपकी पहचान सुनिश्चित हो सके । कोरोना वैक्सीनेशन के लिए पंजीकरण अनिवार्य है पंजीकरण के बाद ही सत्र स्थल और समय की जानकारी साझा की जाती है फोटो आईडी पंजीकरण स्तर पर पंजीकरण और सत्यापन दोनों के लिए जरूरी है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके इस व्यक्ति को वैक्सीनेशन लगाया गया है ।