महिला आयोग अध्यक्ष के निर्देश पर कलेक्टर जिला कोरिया द्वारा तत्काल पीड़ित महिला के उपचार हेतु की गयी कार्यवाही

जिवराखन लाल उसारे छत्तीसगढ़ ग्रामीण न्युज

सोशल मीडिया में आए मामले में महिला आयोग की अध्यक्ष ने दिखाई संवेदनशीलता

मुक्तिधाम में गुजर-बसर करने वाली महिला को इलाज के बाद मिलेगा आशियाना

रायपुर/ सोशल मीडिया में एक महिला के मुक्तिधाम में गुजर बसर करने के मामले में राज्य महिला आयोग ने संज्ञान लिया है। रायपुर एवं कोरिया जिला के कांग्रेस के सदस्यों द्वारा उक्त मामले से राज्य महिला आयोग अध्यक्ष डाॅ. किरणमयी नायक को अवगत कराया था। कांग्रेस सदस्यों द्वारा मामले से अवगत कराने के बाद महिला आयोग अध्यक्ष डाॅ. किरणमयी नायक द्वारा मामले को तत्काल संज्ञान में लेकर कलेक्टर कोरिया को अवगत कराया गया जिसके बाद मनेन्द्रगढ़ एसडीएम प्रशासनिक अमले के साथ मुक्तिधाम पहुंची वहां महिला से मुलाकात कर उसकी बीमारी की जानकारी ली जिसके बाद उसे मनेंद्रगढ़ से सामुदायिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार के लिए भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों की देखरेख में उनका उपचार चल रहा है वही प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि यदि डॉक्टर ,महिला को इलाज के लिए बाहर रेफर करते हैं तो वहां भी महिला आयोग एवं प्रशासनिक अमला के सहयोग से हर संभव उनका सहयोग किया जाएगा।

मेरे संज्ञान में कोरिया जिले के मनेंद्रगढ़ में एक महिला के मुक्तिधाम में बीमार हालात में पड़े रहने की जानकारी आई, जिसका स्वास्थ्य भी ठीक नहीं था मैंने तत्काल उस महिला को उचित चिकित्सा व्यवस्था एवं अन्य व्यवस्थाएं प्रदान करने के लिए कलेक्टर कोरिया को निर्देशित किया था जिसके बाद महिला का इलाज प्रारंभ हो पाया है बेहतर इलाज के लिए उन्हें जल्द ही जिला चिकित्सालय में भर्ती करा दिया जाएगा और साथ ही उसकी देखरेख की जाएगी अगर स्वास्थ्य में सुधार नहीं होता है तो उन्हें और बेहतर इलाज के लिए राजधानी रायपुर रेफर कराया जाएगा

  • डाॅ. किरणमयी नायक, अध्यक्ष राज्य महिला आयोग, छत्तीसगढ क्या है मामला
    सोशल मीडिया में भरतपुर विधानसभा के में आने वाले ग्राम पंचायत चैघडा के शांति नगर में रहने वाली बेबी सारथी की दास्तान सुनकर ऐसा कौन होगा जिसकी रूह ना कहा जाए। दरअसल बेबी सारथी के पति जीतू सारथी की मौत बीते 8 महीना पहले हो गई थी। पति की मौत के बाद परिवार के लोगों ने बेबी सारथी का ध्यान देना बंद कर दिया .इस दौरान वह गंभीर बीमारी से पीड़ित हो गई। जिसके बाद उसके बच्चों और उसकी सास ने उसे मुक्तिधाम में ले जाकर छोड़ दिया। मुक्तिधाम परिसर के नजदीक बने शेड में बीते 5 महीने से एक ही खाट पर पड़े पड़े वह मल मूत्र का त्याग करती है। उसके बिस्तर के नीचे गंदगी का अंबार लगा हुआ है।उसी खाट पर खाना खाती है और उसी पर सोई रहती है.लेकिन इतनी गंदगी में भला उसे नींद कहां आती है और लेटे लेटे उसके पूरे शरीर में घाव भी हो गए हैं.आसपास गुजरने वाले लोग किसी तरह से नाक दबाकर वहां से गुजर जाते हैं। ऐसे में समझा जा सकता है कि वह महिला किस तरह वहा पर पड़ी होगी।

जिला प्रशासन व स्थानीय जनों से सूचना मिलने के बाद मैं खुद समाज कल्याण के उप संचालक एवं अन्य अधिकारी के साथ मौके पर गई थी। वहां महिला की स्थिति बहुत दयनीय थी वहां से महिला को नहला धुला कर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेंद्रगढ़ में भर्ती कराया गया है जहां पर प्रारंभिक जांच में उनका शुगर 750 लगभग पाया गया है साथ ही आगे के बेहतर इलाज के लिए उनको जिला चिकित्सालय बैकुंठपुर रेफर किया गया है एवम् समाज कल्याण विभाग को आगे उनकी देखरेख के लिए निर्देशित किया गया है।
-नयनतारा सिंह तोमर, एसडीएम मनेंद्रगढ़, जिला कोरिया

सोशल मीडिया में महिला की दयनीय स्थिति के बारे में मुझे जानकारी मिली जिसकी सूचना मैंने तत्काल राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डाॅ. किरणमयी नायक जी को दी, उन्होंने तत्काल गंभीरता से मुद्दे को संज्ञान में लिया एवं जिला प्रशासन के मुखिया से बात कर तत्काल महिला के बेहतर इलाज के लिए निर्देशित किया।
-सौरव मिश्रा, प्रवक्ता जिला कांग्रेस कमेटी कोरिया, छत्तीसगढ