वीरांगना महारानी दुर्गावती कई बार छुड़ाए थे छक्के मुगल सेना के

जिवराखन लाल उसारे छत्तीसगढ़ ग्रामीण न्युज
शौर्य,साहस,वीरता,पराक्रम की प्रतिमूर्ति वीरांगना महारानी दुर्गावती का बलिदान दिवस धमतरी में मनाया गया। श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए आर एन ध्रुव प्रांताध्यक्ष अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ छत्तीसगढ़ ने कहा कि वीरांगना महारानी दुर्गावती साक्षात रणचंडी के रूप में युद्धभूमि में मुगल सेना के कई बार छक्के छुड़ाए थे। प्रजा के लिए ममतामयी मां के रूप में,न्याय व त्याग की प्रतिमूर्ति थी। वीरांगना महारानी दुर्गावती जैसे योद्धा नारी न तो इतिहास में कभी पैदा हुआ था और न कभी हो सकता है।
अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए श्री जीवराखन लाल मरई जिला अध्यक्ष ने कहा की समय के साथ हम सबको वीरांगना महारानी दुर्गावती के बताए हुए रास्ते पर चलकर आदिवासी हितों की रक्षा हेतु संगठित होकर शोषण ,अन्याय ,अत्याचार के खिलाफ आवाज बुलंद करना होना होगा।
इस अवसर पर जयपाल सिंह ठाकुर तहसील अध्यक्ष गोंड समाज, एचआर ध्रुव महासचिव,घनश्याम नेताम,आर डी शोरी,श्रीमती नंदा ध्रुव, संतोष ध्रुव, वेद प्रकाश ध्रुव अध्यक्ष युवा प्रभाग, राजू ध्रुव,शिव कुमार मंडावी शंभू गौरा शक्ति महासंघ विशेष रूप से उपस्थित थे।