विदेशी विद्यार्थियों को लगा कोविड-19 का टीका टीका तुंहर द्वार कार्यक्रम के तहत चिरायु की टीम ने किया टीकाकरण


रायपुर 25 जून 2021। Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws
टीका तुंहर द्वार कार्यक्रम के तहत चिरायु टीम के द्वारा आरंग विकासखण्ड मे कलिंगा विश्वविद्यालय के 270 विद्यार्थी और शिक्षकों का वैक्सीनेशन किया गया । जिसमें विदेशों से आये 74 विद्यार्थी भी शामिल थे । वैक्सीनेशन का उद्देश्य देश में रह रहे प्रत्येक नागरिक को कोविड-19 के संक्रमण से सुरक्षित करना है ।
वैक्सीनेशन का कार्य मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल के नेतृत्व में विकासखंड आरंग के खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. केपी राय के मार्गदर्शन में किया गया है ।
कलिंगा विश्वविद्यालय में हुए वैक्सीनेशन की जानकारी देते हुए आरंग विकासखण्ड की बीईटीओ सविता साहू ने बताया,“चिरायु टीम द्वारा कलिंगा विश्वविद्यालय में टीम द्वारा दो कार्य दिवस में 270 विद्यार्थी और शिक्षकों का वैक्सीनेशन किया गया ।जिसमें 18 से 44 वर्ष आयु के 260 लोगों का टीकाकरण किया गया है वहीं 45 से ऊपर आयु के 10 लोगों का भी टीकाकरण किया गया ।
टीकाकरण में विदेशों से भारत में शिक्षा लेने आये 74 विदेशी विद्यार्थी भी शामिल थे । जिसमें नाइजीरिया के 53, अफगानिस्तान के 6, बांग्लादेश के 7, और नेपाल के 8 विद्यार्थियों को डॉ.सचिन द्विवेदी, डॉ. भूपेश गेंद्रे सिस्टर अंतरा परधनिया एवं रमा साहू की टीम के द्वारा टीकाकरण किया ।
साउथ सूडान से भारत में शिक्षा लेने आए बीटेक केमिस्ट्री के छात्र यम्मी गेले फ्लोर वैक्सीनेशन के उपरांत अपने अनुभव को साझा करते हुए कहते हैं,“वैक्सीनेशन के दौरान मात्र ऐसा लगा कि चींटी ने काटा हो और उसके बाद सब सामान्य हो गया । आधा घण्टा ऑब्जरवेशन रूम में रहने के उपरांत अपने हॉस्टल में आ गए सब सामान्य स्थिति रही । वैक्सीनेशन करा लेने के उपरांत कहीं भी आने-जाने में परेशानी नहीं होती है थोड़ा डर कम हो जाता है कोविड के लिए वैक्सीनेशन ही सुरक्षित और कारगर है इलाज है” ।

बीएससी द्वितीय सेमेस्टर के बायोटेक में शिक्षा लेने आए लाइबेरिया (नाइजीरिया) के छात्रमीवे अगस्टिन बताते है‘’भारत सरकार द्वारा सब देश में रह रहे अपने सभी नागरिकों का वैक्सीनेशन कराने पर जोर दिया जा रहा है । उसी कड़ी में आज हमारा भी वैक्सीनेशन किया गया । वैक्सीनेशन कराना जरूरी है । जिससे कोविड-19 के संक्रमण से बचा जा सकता है । साथ ही विद्यार्थी होने के नाते हमें वापस अपने देश जाने के लिए विमानपत्तन पर वैक्सीनेशन के सर्टिफिकेट की आवश्यकता होती है । जो वैक्सीनेशन के उपरांत ही हमें मिलता है ।हम भारत सरकार का के साथ-साथ छत्तीसगढ़ सरकार को भी धन्यवाद देते हैं जिन्होंने समय पर हमारा टीकाकरण करवाया। इससे हम भी सुरक्षित होंगे भारत भी सुरक्षित होगा और जब हम अपने देश वापस जाएंगे तो वहां के नागरिक भी सुरक्षित रहेंगे” ।