1 जुलाई से स्कूल खोलने की मांग,500 प्राइवेट स्कूलों पर लग चुका है ताला

1 जुलाई से स्कूल खोलने की मांग,500 प्राइवेट स्कूलों पर लग चुका है ताला,     25-06-2021 Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws


00 प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने सौंपा ज्ञापन,आर्थिक संकट का दिया हवाला
रायपुर।
 प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की मानें तो राज्य में कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के चलते 500 प्राइवेट स्कूलों पर  ताला लग चुका है। मार्च 2020 से स्कूल बंद हैं। अपनी व्यथा लेकर मुख्यमंत्री के नाम  छत्तीसगढ़ प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की ओर से शासन को ज्ञापन सौंपते हुए मांग की गई है कि पहली जुलाई से स्कूल खोल दें तभी इन स्कूलों का संचालन आगे संभव होगा अन्यथा बाकी स्कूलों में भी तालाबंदी की नौबत आ सकती हैं। जबकि सरकार की ओर से पहले ही कह दिया गया है कि संक्रमण की दर घटकर शून्य हो जाएगी तब राज्य में  स्कूल खोले जा सकेंगे।
दरअसल शुक्रवार को छत्तीसगढ़ प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की तरफ से मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन रायपुर के कलेक्टर को सौंपा गया है। इस ज्ञापन में स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव गुप्ता की तरफ से बताया गया है कि लॉकडाउन और कोरोना के असर के बीच प्राइवेट स्कूल में पढऩे वाले बच्चों के 40 फ़ीसदी पेरेंट्स ने ही अब तक फीस जमा कराई है। हम चाहते हैं कि सरकार सभी पेरेंट्स से पूरी फीस फीस देने को लेकर अपील करे। फीस ना मिलने की वजह से स्कूल का खर्च चला पाना मुश्किल हो रहा है, जबकि समय-समय पर सरकार की तरफ से मिले निर्देशों के साथ प्राइवेट स्कूलों ने बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखी है।
लॉकडाउन का असर बताते हुए एसोसिएशन ने इस बात से भी अवगत कराया है कि प्राइवेट स्कूलों के द्वारा संचालित स्कूल बसें ज्यादातर फाइनेंस पर ली गई हैं। इनकी किश्त जमा करने के पैसे नहीं है। बस चल नहीं रही है लिहाजा पेरेंट्स बस से जुड़ा शुल्क देने से साफ इनकार कर देते हैं। ऐसे में आर्थिक दिक्कतें पैदा हो रही हैं। सरकार से स्कूल एसोसिएशन की तरफ से यह मांग भी की गई है कि इन बसों की बैंक किश्त कुछ दिन के स्थगित की जाए, इनका रोड टैक्स भी माफ किया जाए।
इधर सरकार की ओर से कहा जा चुका है कि जब राज्य में संक्रमण की स्थिति शून्य होगी और संभावित तीसरी लहर जैसा कि एक्सपर्ट बता रहे हैं,को देखते हुए स्कूल खोलने का निर्णय लिया जायेगा। बारहवीं बोर्ड के आने वाले परिणाम को देखते हुए लगता नहीं कि अगस्त से पहले स्कूल खुल सकेंगे। वैसे शासकीय व निजी स्कूलों में दाखिले की प्रकिया तो कोविड नियमों के तहत चल रही है।