छत्तीसगढ़ में 2 अगस्त से खुलेंगे स्कूल, 10वीं और 12वीं की कक्षाएं लगेंगी, प्रायमरी स्कूल के लिए पंचायतें लेंगी फैसला

रायपुर : छत्तीसगढ़ की सरकार की कैबिनेट बैठक मंगलवार को खत्म हो गई। इसमें 2 अगस्त से स्कूल खोलने का फैसला लिया गया है। बीते दो सालों से बंद पड़े स्कूल अब खुलेंगे। बैठक के बाद जानकारी देते हुए मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि तकनीकी शिक्षा, नर्सिंग जैसे संस्थान 2 अगस्त के बाद से खुल सकेंगे। कॉलेज में फाइनल ईयर की क्लास पहले लगेगी। 20 दिन के बाद यानि की 20 अगस्त के बाद सेकेंड और फर्स्ट ईयर की कक्षाएं शुरू होंगी। कॉलेज में स्टूडेंट्स का जाना जरूरी नहीं होगा। स्कूल में 50 प्रतिशत स्टूडेंट को बुलाया जाएगा। यानी एक दिन के गैप में स्टूडेंट स्कूल पहुंचेगे। स्कूल को लेकर कहा गया है कि शहरों में 10वीं और 12वीं की कक्षाएं खुलेंगी। ऐसी ग्राम पंचायतें जहां कोविड के जीरो केस हैं वहां ग्राम पंचायत और पालक समिति आपस में तय करने के बाद प्रायमरी स्कूल खोल सकती हैं। शहरी इलाकों में पार्षद और स्कूल प्रबंधन के अलावा पालकों की समिति ये तय करेगी। ये स्थानीय स्तर पर तय किया जाएगा। लेकिन वहां कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।

ये फैसले भी हुए

  • कैबिनेट की मंगलवार को हुई ये बैठक 38वीं बैठक थी। इसमें 35 से ज्यादा मुद्दों पर सरकार के मंत्रियों ने बातें की और तय किया कि आगे किन प्रमुख विषयों पर काम होंगे।
  • चंदू लाल चंद्राकर कॉलेज के अधिग्रहण का विधेयक विधानसभा में पेश होगा।
  • प्रथम अनूपूरक बजट का अनुमोदन किया गया। इसमें 45 प्रतिशत राशि स्वास्थ्य की योजनाओं पर सरकार खर्च करेगी।
  • रायपुर मंे हाउसिंग बोर्ड और RDA की 58 कॉलोनी नगर निगम को सौंपी जाएगी।
  • नवा रायपुर में 50 करोड़ के खर्च से एक शैक्षणिक संस्थान बनेगा
  • राजीव गांधी भूमिहीन कृषि न्याय योजना का ड्राफ्ट अनुमोदित किया गया है।
  • 18 कोल ब्लॉक की निलामी के लिए केंद्र सरकार ने राज्य की सहमति मांगी थी। रहवासी इलाका होने की वजह से धरमजयगढ़ और खरसिया इलाके के एक कोल ब्लॉक को छोड़कर 17 के लिए सहमति दी गई।
  • मुख्यमंत्री सस्ती दवा दुकान योजना के तहत जेनेरिक दवा लोगों को मिलेगी। 28 जिले में शुरू होगी दुकानें
  • मछली पालन को कृषि का दर्जा दिया गया। अब इसके किसानों को बिजली बिल सस्ती, ब्याज के बिना लोन, पानी की सुविधा दी जाएगी।
  • लेमरू प्रोजेक्ट पर कोई फैसला नहीं हुआ