आरक्षण की मांग को लेकर अनुसूचित जनजाति अधिकारी-कर्मचारी 26 जुलाई को लेंगे अवकाश

छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ द्वारा विभिन्न विभागों में नियम विरुद्ध हो रहे पदोन्नति के खिलाफ चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जा रहा है । प्रथम चरण 8 जून से 14 जून 2021 तक, द्वितीय चरण 20 जून 2021 को, तृतीय चरण 28 जून 2021 को अलग अलग तरीके से आंदोलन कर शासन को अवगत कराया गया । छत्तीसगढ़ के कई विधायकों व सांसदों ने पदोन्नति में आरक्षण बहाली करने के संबंध में माननीय मुख्यमंत्री जी को पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया । संघ द्वारा वर्चुअल आंदोलन किया गया । आरक्षण संबंधी तख्ती लगाकर मोबाइल में फोटो खींचकर फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप के माध्यम से विभिन्न नारों के साथ महामहिम राज्यपाल सहित छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी, कैबिनेट मंत्री श्री सिंहदेव जी, छत्तीसगढ़ के मंत्रीगण, दिल्ली में माननीय श्रीमती सोनिया गांधी, माननीय श्री राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के प्रभारी पी एल पुनिया को ज्ञापन भेजा गया है तथा सभी जिला कलेक्टरों के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी के नाम पर भी ज्ञापन सौंपा गया ।
मांग पूरी नहीं होने पर चतुर्थ चरण में दिनांक 26 जुलाई 2021 को 1:30 बजे से रायपुर के गोंडवाना भवन में इकट्ठा होकर विधानसभा भवन तक विराट रैली प्रदर्शन कर माननीय मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन को ज्ञापन सौंपा जाएगा । इस आंदोलन में भाग लेने हेतु राज्य के सभी विभागों के अधिकारी कर्मचारियों ने अवकाश पर रहने का एलान किया है । संघ के प्रांताध्यक्ष आर एन ध्रुव द्वारा सभी अधिकारियों कर्मचारियों को 26 जुलाई दिन सोमवार को अपने हक की लड़ाई लड़ने हेतु अवकाश लेकर आंदोलन में शामिल होने की अपील की है।