स्वर्गीय श्री देवी प्रसाद चौबे की स्मृति में उनकी 45 वीं पुण्य तिथि पर आयोजित किया गया कार्यक्रम

रायपुर 14 अगस्त 2021

प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ को समृद्ध बनाने के लिए गांवों को समृद्ध बनाना होगा। ग्रामीणों, किसानों, मजदूरों की स्थिति को बेहतर बनाने के साथ ही लोककला एवं संस्कृति को संरक्षित करना होगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ग्रामीण व्यवस्था को मजबूत कर रही है। गांधीवादी एवं ग्रामीण व्यवस्था के सशक्त प्रतिनिधि स्वर्गीय देवी प्रसाद के प्रति यही सच्ची श्रद्धांजलि है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में लोक जागरण पत्रिका की ओर से स्वर्गीय देवी प्रसाद चौबे की स्मृति में आयोजित 21वें वसुंधरा सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। समारोह का आयोजन संस्कृति विभाग एवं श्री चतुर्भुज मेमोरियल फाउंडेशन के सहयोग से किया गया । मुख्यमंत्री ने अवसर पर सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं पत्रकार श्री सतीश जायसवाल को प्रशस्ति पत्र शाल एवं श्रीफल भेंट कर 21 वें वसुंधरा सम्मान से सम्मानित किया। उन्होंने समारोह मे लोकजागरण की मासिक पत्रिका ‘वसुंधरा’ के 58 वें तथा कला, साहित्य, संस्कृति की मासिक पत्रिका ‘बहुमत’ के 109वें अंक का लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आगे कहा कि स्वर्गीय श्री देवी प्रसाद चौबे जी वैचारिक रूप से दृढ़ और धार्मिक व्यक्ति थे। उन्होंने सामाजिक कुरीतियों विशेषकर देउरगांव स्थित महामाया मंदिर में बलि प्रथा की रोकथाम में अग्रणी भूमिका निभाई। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि गांवों में रोजगार, शिक्षा एवं स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा के लिए छत्तीसगढ़ सरकार प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना से लोगों का खेती-किसानी और गांव के प्रति रूझान बढ़ा है। दो-ढाई सालों में किसानों की संख्या 15 लाख से बढ़कर 22 लाख और खेती का रकबा 22 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 27 लाख हेक्टेयर हो गया है। ग्रामीण अंचल के भूमिहीन परिवारों की मदद के लिए राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के जरिए 6 हजार रूपए की वार्षिक मदद दी जाएगी। गोधन न्याय योजना सेे पशुपालन और डेयरी को  बढ़ावा मिलने लगा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि तेन्दूपत्ता संग्रहण दर में बढ़ोतरी और 52 लघुवनोपजांे की खरीदी से वनांचल में लोगों की आर्थिक स्थिति बेहतर हुई है। दंतेवाड़ा जिले का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि इस साल अब तक 133 ट्रेक्टर की बिक्री दंतेवाड़ा में हुई है। बीते दो-ढ़ाई सालों में लगभग 400 ट्रेक्टर वहां के किसानों ने खरीदा है। दंतेवाड़ा में मोटर सायकल की खरीदी में भी कई गुणा की बढ़ोत्तरी हुई है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत ने कहा कि साहित्कार श्री सतीश जायसवाल को वसुंधरा सम्मान के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। समारोह के मुख्य वक्ता डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने कहा कि वर्तमान दौर में सूचनाओं की सत्यता और विश्वसनीयता एक बड़ी चुनौती है। सोशल मीडिया में गलत तथ्य प्रचारित किए जा रहे हैं। ऐसी स्थिति में पत्रकारिता प्रतिष्ठानों की यह जिम्मेदारी है कि वह सच्ची खबरें और सोशल मीडिया में चल रही खबरों की सच्चाई बताए। कार्यक्रम को वरिष्ठ पत्रकार श्री रमेश नैय्यर ने भी सम्बोधित किया। पत्रकार एवं साहित्यकार श्री सतीश जायसवाल ने कहा कि भारतीय लेखन में साहित्य और पत्रकारिता साथ साथ चली है। वसुंधरा सम्मान दोनों धाराओं को साथ लेकर चल रहा है। उन्होंने ग्रामीण व्यवस्था, संस्कृति, लोककला को पुर्नजीवित करने के लिए मुख्यमंत्री के प्रयासों की सराहना की।
समारोह में स्वर्गीय श्री देवीप्रसाद चौबे के पुत्र श्री प्रदीप चौबे तथा कृषि एवं जलसंसाधन मंत्री श्री रविंद्र चौबे, महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष श्री ज्ञानेश शर्मा, छत्तीसगढ़ राज्य कृषक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र शर्मा, छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी सहकारी वित्त निगम की उपाध्यक्ष श्रीमती नीता लोधी, छत्तीसगढ़ राज्य बुनकर सहकारी संघ के अध्यक्ष श्री मोतीलाल देवांगन, वसुंधरा सम्मान के संयोजक श्री विनोद मिश्र, आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री अरुण श्रीवास्तव, सचिव श्री मुमताज भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर श्री डी.एन.शर्मा ने किया।
ज्ञातव्य है कि वर्ष 2001 से निरंतर जारी वसुंधरा सम्मान अब तक सर्वश्री रमेश नैयर, कुमार साहू, श्यामलाल चतुर्वेदी, बसंत कुमार तिवारी, बबन प्रसाद मिश्र, दिवाकर मुक्तिबोध, आशा शुक्ला, शरद कोठारी, गिरिजा शंकर, हिमांशु द्विवेदी, विनोद शंकर शुक्ल, ज्ञान अवस्थी, श्याम वेताल, अभय किशोर, गिरीश पंकज, सुशील त्रिवेदी, बी. के. एस. रे, प्रकाश दुबे, तुषार कांति बोस, ई. वी. मुरली को प्रदान किया जा चुका है।