कमकापार  गांव में अच्छी बारिश हो इसके लिए मगतु ठाकुर में को मनाने प्राचीन परंपरा भीमा बिहाव का सहारा लिया गया । यह 1974 के बाद 2021 में आयोजित किया गया…. जिसमें आसपास के कई गांवों के लोगों द्वारा अधिक संख्या में उपस्थित होकर कार्यक्रम को सफलतापूर्वक संपन्न किया गया। आस्था का प्रतीक कहा जाता है कि भीमा बिहाव में आने वाले लोग बारिश में भीगे बिना वापस नहीं जाते ऐसा ऐतिहासिक मान्यता है भीमा बिहाव संपन्न होने के बाद मूसलाधार बारिश देखा गया हैैhttps://youtu.be/6XJG2N3oRRs