*आज से शुरू होगा शिशु संरक्षण माह* *बच्चों को दी जाएगी विटामिन ए और आयरन सिरप की खुराक*

Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws
*24 अगस्त से 28 सितंबर तक चलेगा शिशु संरक्षण माह*
*ज़िले में विटामिन ए की खुराक के लिये 2.80 लाख शिशुओं का लक्ष्य है प्रस्तावित*
*रायपुर 23 अगस्त 2021 ।* ज़िले में 24 अगस्त से 28 सितंबर तक चलाये जाने वाले शिशु संरक्षण माह में जिले के 2.80 लाख से अधिक बच्चों को विटामिन ए और लगभग 2.98 लाख बच्चों को आयरन सीरप की खुराक दी जायेगी । यह खुराक 2,306 प्रस्तावित सत्रों में बच्चों को पिलाई जायेगी।
*कोविड नियमों का पालन करते हुए आयोजित होगा*
कोविड-19 के दौरान गाइडलाइन के अनुसार ही बच्चों को विटामिन ए और आयरन सिरप की खुराक दी जाएगी साथ ही इस दौरान शारीरिक दूरी का भी ध्यान रखा जायेगा । केंद्र पर आने के समय की जानकारी बच्चों के अभिभावकों को पहले से ही दे दी जायेगी, ताकि वह आसानी से आकर विटामिन ए और आयरन सिरप की खुराक का सेवन अपने नौनिहालों को करा सके।आयरन और विटामिन ए की खुराक से बच्चों के पोषण स्तर में सुधार आता है । इसकी खुराक न पीने से बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास सही से नहीं हो पाता है। नौ माह से एक वर्ष तक के बच्चों को एक एमएल विटामिन ए की खुराक एवं एक वर्ष से पांच वर्ष तक के बच्चों को दो एमएल खुराक दी जायेगी, वहीं छः माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को एक एमएल सप्ताह में 2 दिन मंगलवार और शुक्रवार के दिन दी जायेगी।
इस बारे में जानकारी देते हुए रायपुर की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, डॉ.मीरा बघेल ने बताया, “यह विटामिन ए अनुपूरक कार्यक्रम है जिसमें विटामिन ए और आयरन सिरप सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में निशुल्क दिया जायेगा । सत्रों के दौरान विटामिन ए और आयरन सीरप बच्चों को पिलाई जायेगी साथ ही उनका वजन लेना,पोषण आहार की जानकारी देना,आंगनवाड़ी केंद्रों में पोषण आहार की सेवाओं की उपलब्धता कराना,और अति गंभीर कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती करवाया जायेगा”।
ज़िले में इस बार लगभग 2,306 सत्रों का लक्ष्य प्रस्तावित है, जिसमें विकासखण्ड अभनपुर में 312, आरंग में 341, धरसींवा 210, तिल्दा में 330, बिरगांव में 142,और रायपुर शहरी में 971,सत्रों का लक्ष्य प्रस्तावित किया गया है ।
विटामिन ए की खुराक के लिए 2.80 बच्चों का लक्ष्य निर्धारित किया गया है वहीँ आयरन सीरप को पिलाने के लियें कुल 2.98 लाख बच्चों को लक्षित किया गया है।
स्वास्थ्य अधिकारियों व सिविल सर्जनों को शिशु संरक्षण माह की विटामिन ए अनुपूरक कार्यक्रम की गाइड लाईन जारी कर दी गयी है और साथ ही इसके लिए ज़िला स्तरीय ज़िला टास्क फोर्स की बैठक की गयी है । जिसमें स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग व अन्य विभागों से समन्वय कर इस अभियान को सफल बनाने की अपील की गई । अभियान के सफल संचालन में ग्राम स्वास्थ्य और शहरी स्वास्थ्य पोषण दिवस पर ग्राम और शहरी स्तर पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, क्षेत्र की मितानिन, महिला आरोग्य समिति, ग्राम पंचायत, वार्ड पार्षद और सदस्यगणों का सहयोग भी लिया जायेगा।
*वजन लेने पर रहेगा विशेष ध्यान*
जिला टीकाकरण अधिकारी आशीष वर्मा ने बताया, “टास्क फोर्स की बैठक में विशेष रूप से मुख्य कार्यपालन अधिकारी रायपुर द्वारा निर्देशित किया गया है, कि बच्चों का वजन अनिवार्य रूप से लिया जाए ताकि किसी भी कुपोषित, अति कुपोषित या गंभीर कुपोषित बच्चे को समय पूर्व चिन्हाँकित कर उसे पोषण पुनर्वास केंद्र के माध्यम से मिलने वाली सुविधा का लाभ दिया जा सके” ।
*इन दिनों में आयोजित होंगें सत्र*
विटामिन ए और आयरन सिरप की खुराक के लिये चलने वाला यह अभियान,24 अगस्त,27 अगस्त,31 अगस्त, 03 सितंबर,07 सितंबर, 10 सितंबर, 14 सितंबर, 17 सितंबर, 21 सितंबर, 24 सितंबर, और 28 सितंबर को ऑगनबाड़ी केन्द्र पर संचालित किया जाएगा ।
*सीएमएचओ ने की अपील*
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर मीरा बघेल ने अपील की है, “शिशुवती माताएं निर्धारित समय में केंद्रों पर पहुंचे और अपने बच्चे को शारीरिक और मानसिक विकास के लिए विटामिन ए की खुराक पिलाएं । केंद्र पर भीड़ लगाने से बचें, शारीरिक दूरी का ध्यान रखें और पूर्व में निर्धारित समय पर पहुंचकर बच्चों को विटामिन ए के अनुपूरक कार्यक्रम का लाभ दिलवाए” ।
*क्या कहते हैं जिले के आंकड़े :*
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-16 के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो रायपुर जिले में 9 माह से 5 वर्ष तक के लगभग 71 प्रतिशत बच्चों ने ही विटामिन ए की खुराक का सेवन किया है जबकि इस आयु वर्ग के सभी बच्चों को विटामिन ए की खुराक मिलना अत्यंत महत्वपूर्ण है इसलिए सरकार द्वारा हर 6 माह में शिशु संरक्षण माह का आयोजन किया जाता है ताकि सभी बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाई जा सके ।
——————————