हमें अकारण विष वृक्ष भी नहीं काटना चाहिए:- पंडित लोकेश कृष्ण दुबे

Jiwrakhan lal Ushare cggrameen nëws  लोक श्री मनोज दुबे चैरिटेबल फाउंडेशन के सदस्यों ने राष्ट्रीय राज्य मार्ग रायपुर बिलासपुर के किनारे वृक्षों की रक्षा के लिए रक्षा सूत्र बांधकर वृक्षों का रक्षा का संकल्प लिया इस अवसर पर संस्था के संयोजक भगवताचार्य पंडित लोकेशकृष्ण दुबे ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि वृक्षों से ही हमारा जीवन चक्र संचालित होता है एक वृक्ष हजारों की संख्या कीट पतंगों एवं पक्षियों को आश्रय देकर जीवन चक्र को संचालित करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है हमारे वृक्ष ही हम सभी के लिए प्राण दाता है वृक्षों से ही हमें प्राणवायु मिलती है ।करोना काल में हम देख चुके हैं कि प्राणवायु के बिना लोगों को कितनी तकलीफ हुई एकमात्र वृक्ष रोपण करना ही एवं वृक्षों की रक्षा करना हमारा परम उद्देश्य होना चाहिए ।हमारे प्राचीन ऋषि-मुनियों वृक्षों का महत्व जानते थे इसीलिए उन्होंने वृक्षों की कटाई पर रोक लगाने के लिए कहा कि जहरीले वृक्षों को अकारण नहीं काटना चाहिए।” विष वृक्षों अपि संमवर्धय स्वयं छेतुम समपतम” अर्थात विष वृक्ष भी लगाकर नहीं काटना चाहिए अनेका वृक्षों को हमारे ऋषि मुनि ने देवताओं का वास बताया है इसका मूल कारण है कि हम वृक्षों की अनावश्यक कटाई ना करें। भनपुरी के युवा साथियों ने लगातार कई वर्षों से भनपुरी के वृक्षों की रक्षा के लिए सतत प्रयत्नशील रहते हैं ।इस अवसर पर सदस्यों ने वृक्षों का रक्षा सूत्र बांधकर उनकी आरती की तथा आसपास के लोगों को उनकी रक्षा करने के लिए प्रेरित किया तथा प्रत्येक व्यक्ति को अपने घर के सामने 2 फलदार एवं छायादार वृक्ष लगाने हेतु प्रेरित किया ।इस अवसर पर फाउंडेशन के संयोजक पंडित लोकेश कृष्ण दुबे, मनोज साहू ,सोमनाथ यादव, नरेंद्र यादव,चन्दू निर्मलकर, छोटू साहू, मयंक ,अभय,अनुज,अरविंद,सहित अनेक पदाधिकारीगण उपस्थित थे।