*10 गांवों के देवी-देवताओं का जतरा हुआ, कांकेर में निभाई जाती है यह प्राचीन परम्परा

जिवराखन लाल उसारे छत्तीसगढ़ ग्रामीण न्युज
कांकेर में नवरात्रि के अवसर पर 10 गांवों के देवी-देवताओं का जतरा हुआ. प्राचीन समय से यह परंपरा चली आ रही है. मंदिर समिति के सदस्य आनंद चौरसिया वर्तमान में राजापारा वार्ड के पार्षद हैं. उन्होंने बताया कि नवरात्रि के पर्व मंदिर समिति 12 गांवों के देवी-देवताओं को निमंत्रण देकर बुलाया जाता रहा है. लेकिन मंदिर परिसर में देवी-देवताओं के विराजने (बैठने) के लिऐ जगह न होने की वजह से इस परम्परा को बंद कर दिया गया था. इस साल वार्ड वासियों और समिति से चर्चा कर यह परंपरा फिर शुरू की गई है.
इस साल मंदिर समिति ने 10 गांवों के देवी-देवता, जिसमें पाठदेव (आंगा), पुजारी माझांपारा, मोकला मांझी पूजारी अन्नपूर्णा पारा, ग्राम बांस पत्तर आंगा पुजारी, सोनकुवर नवागांव, वीर कुवर घोटिया, मुडडोगरी, बालकुंवर मलांजकुडूम, गढपिछवाडी, चिवरांज, बारदेवरी गांव के देवी-देवता शामिल हैं. सिंहवाहनी मंदिर में जगह की कमी को देखते हुए राजापारा में स्थित गद्दी मावली माता मंदिर के प्रांगण में जवारा कार्यक्रम रखा गया है.