चैत पंचमी अंधियारी पक्ष के महान पावन पर्व पर राष्ट्रीय धूर पंचमी (सृष्टि दिवस)8 वं वर्ष

Spread the love

जिवराखन लाल उसारे छत्तीसगढ़ ग्रामीण न्यूज़ 

कार्यक्रम – दिनांक – 30/03/2024, दिन – शनिवार

स्थान – शिव तपो भूमि गोंडवाना उदगम स्थल अमरकंटक, जिला- अनुपपुर (म.प्र.)

गौड़ी संस्कृति विश्व संस्कृति की जननी है। व्यक्ति से परिवार और परिवार से समाज का निर्माण होता है और हर समाज की अपनी रीति-नीति परंपरा और संस्कृति ही समाज की पहचान होती है। धर्म पिता, भाषा माता, संस्कृति और कला गौड़ समाज की विशेष पहचान है। इसी गाँड़ी धर्म संस्कृति को अयुष्य बनाये , भय और भ्रम को मिटाने तथा

 

रुढ़ी अन्य परंपरा को संरक्षित करने गोंडवाना मुरुददा परम् श्रध्देय दुर्गेभगत जी एवं गुरुवाई दुर्गदुलेस्वरी के आशीर्वाद एवं सानिध्य में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी चैत पंचमी अंधियारी पक्ष के महान पावन अवसर पर “धुर / रंग पंचमी (सृष्टि दिवस) का कार्यक्रम आयोजित किया गया है।

अतः समस्त मातृ-पितृ शक्ति अपने तन मन धन से कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना सहयोग प्रदान करें आपका आर्थिक सहयोग ही समाज के विकास और एकता का प्रतीक है।

गुरुवाणी – सिध्द कीजिए कि मैं गोंड़ हूँ।
यह सच है कि गोंड़ हिन्दू नहीं है। (त्रिलोक सिंह वि. गुलाब एस.ए./100/66 दिनांक 15/01/1971 सुप्रीम कोर्ट नई दिल्ली) आदेश)