ग्राम खैरी (क) में महाकाल बड़देव स्थापना दिवस धूमधाम से मनाया गया

Spread the love

जिवराखन लाल उसारे छत्तीसगढ़ ग्रामीण न्युज 

प्रति वर्षानुसार इस वर्ष भी आदिवासी गोंड समाज द्वारा अपने रीति नीति परंपरा संस्कृति को अक्षुण्य बनाये रखने समाजिक संगठन को मजबूत करने तथा समाज में जागृति लाने समाज की सुखी समृद्धी के लिए परमश्रद्धेय गोंडवाना गुरूदेव गुरूमाता के आशीर्वाद से भाटापारा ब्लाक के छोटे से ग्राम खैरी (क) में महाकाल स्थापना दिवस एवं प्रकृति शक्ति बड़ादेव पूजन का कार्यक्रम रखा गया।
जिसमें मुख्य अतिथि आर.के.कुंजाम प्रां महासचिव गोंडी धर्म संस्कृति संरक्षण समिति छत्तीसगढ़ द्वारा समाज में फैले अंधविश्वास बुराई मिटाते हुए शिक्षा के क्षेत्र में समाज को आगे लाने,नशापान से होने फैले बुराई से समाज को अवगत कराते हुए नशा मुक्त समाज का निर्माण, आर्थिक रूप से समाज को सम्पन्न बनाने, शिक्षा को बढ़ावा देने,अपने सामाजिक परंपरा अनुसार धर्म संस्कृति रीति नीति पर चलने बचाये रखने का संदेश दिया गया। विशिष्ट अतिथि टीकाराम नेताम मावली महासभा उपाध्यक्ष द्वारा संदेश दिया गया जिस समाज में गुरू व्यवस्था है वही समाज संगठित है।जो हमें अपने धर्म संस्कृति रीति नीति परंपरा संबंधी ज्ञान और जानकारी देता है।जिसके कारण समाज व्यवस्थिति होता है। सभी समाज में अपने अपने समाजिक गुरु होता है। आदिवासी गोंड समाज में मुठवा, पुजारी ही गुरु होता है जो धर्म संस्कृति देवी देवता परंपरा संबंधी जानकारी देता है। रातभर सिल्वा, खैरी के छोटे छोटे बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।अंत में महाकाल ठाना के पूर्व मुठवा पुजारी,एवं सामाजिक मुखिया स्वर्गीय टीकाराम पोर्ते की स्थापित मूर्ति में श्रद्धा सुमन अर्पित कर समस्त अतिथि एवं ग्राम वासियों द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित किया गया।
जिसमें मुख्य अतिथि आर. के. कुंजाम प्रां महासचिव ,विशिष्ट अतिथि मावली महासभा के उपाध्यक्ष टीकाराम नेताम, ग्राम सरपंच प्रहलाद मानिकपुरी ग्राम के रायपंच बाबू लाल मरकाम जी, ग्राम महाकाल के पुजारी,जिला युवा प्रभाग अध्यक्ष ऐश्वर्या कुंजाम, उपाध्यक्ष सुखबली छेदैईहा,सचिव अभिषेक पोर्ते, ब्लाक अध्यक्ष अक्षय नेताम, कोषाध्यक्ष हीरा मति नेताम,बेदराम,लुकूस ,भानू छेदैईहा बम्हनीमुड़ी,लुकुस ,सूरज नेताम,मकरम पोर्ते,लोमश, हेमंत मंडावी, धर्मेंद्र मंडावी, नंदकुमार छेदैईहा गवरादाई महिला सेवा समिति से मालती कुंजाम, तनुजा पोर्ते फगनी नेताम बाई,लता बाई पोर्ते,सुनती नेताम के साथ सैकड़ों ग्राम वासी मातृ पितृ शक्ति उपस्थित रहे।